नदी को अपने प्रचंड प्रवाह पर घमंड हो गया

एक बार नदी को अपने पानी केप्रचंड प्रवाह पर घमंड हो गयानदी को लगा कि … मुझमें इतनी ताकत है कि मैंपहाड़, मकान, पेड़, पशु, मानव आदिसभी को बहाकर ले जा सकती हूँ एक दिन नदी ने बड़े गर्वीले अंदाज मेंसमुद्र से कहा ~ बताओ !मैं तुम्हारे लिए क्या-क्या लाऊँ ?मकान, पशु, मानव, वृक्षजो तुम […]

Continue Reading